About us

About us

मैं कौन हूँ : Rohit kumar Gupta

मेरा नाम रोहित कुमार गुप्ता है और मैं Aoura के एक छोटी सी villege में रहने वाला हूँ जो झारखंड में स्थित है।
मैंने अपनी gradution की पढ़ाई ghaghra inter science college बगोदर से की है। मैंने Security guard के रूप में अपनी पहली नौकरी की लेकिन मैंने वाह नौकरी बस पांच दिन में छोङ दी।

क्युकी मैंने sucurity guard की जॉब bangalore से 300 km दूर लगी जहा iron mining का काम चल रहा था। वहा दूर दूर तक जंगल ही जंगल था जहा काम पूरा करने के बाद कहीं भी घुमने नहीं जा पता था |  क्युकी वहा जंगल की अतिरिकत और कुछ नहीं था और शहर बहुत ही ज्यादा दूर थी। जिससे मुझे बहुत खराब लगता था इसीलिए मैंने यह काम छोड़ दिया
जिससे मुझे आगे चलकर बहुत मुस्किल हालातो का सामना करना पड़ा।
लेकिन फिर भी मुझे ना ही कोई काम मिला ना ही कोई नौकरी मिली | लेकिन मेरे पापा का समोसा और पकौड़ी का रेड्डी लगाते है। जिसके वजह से कुछ सालों तक काम ना करने बावजुद मुझें घर की पूरी सपोर्ट मिला।
तभी मैंने सर पवन अग्रवाल के youtube पर वीडियो देखा और मुझे पता चला की कमाने का जरिया online भी है मैंने सर के वीडियो से blogging के बारे मे अच्छे से जाना और मैं उसमे काम करना चाहता था। लेकिन मैं इसके बारे मे कुछ नही जनता था लेकिन मुझे इसे करना था |
इसीलिए मैंने youtube पर काफी वीडियो देखे और उसपे काम किया औरअब जो आप देख रहे है मैंने यह ब्लॉग पार बहुत मेहनत किया और इसमें काम करता रहा। इसे पहले मैंने एक और वेबसाइट बनाई थी |

जिसका नाम getnewnaukri. Com रखा था। यह एक जॉब लिस्टिंग वेबसाइट थी लेकिन मैं इसपे काम नही कर पाया और मैंने इसे छोड़ दिया। और तब मैंने फिर से एक बार एक नया नाम से एक वेबसाइट बनाई जिस्का नाम zoopwheels है | जो आप अभी देख रहा है |

कैसे बना मैं एक ब्लॉगर ?

यह तो एक स्वाभाविक सी बात हैं कि अगर कोई भी ब्लॉगर हैं तो उसे लिखने पढ़ने का शौक होता हैं और वो इंटरनेट को थोडा बहुत समझता हैं |  मैं भी कुछ ऐसा ही था लेकिन मेरे पास समय नही था क्युकी मैं पापा के साथ अपने रेड्डी मे जाता और कुछ कुछ मदद करता था।लेकिन मुझे तो कुछ करना ही था। फिर भी मै खुद को टाइम देते हुये कुछ न कुछ लिख कर पब्लिश करता रहता था, जिससे मुझे ब्लॉगिंग के बारे में थोडा बहुत पता था लेकिन उसे प्रोफेशन बनाने के बारे में मैंने कभी नहीं सोचा .

किस तरह बना zoopwheels एक हिंदी ब्लॉग ?

फिर एक दिन लाइफ में चेंज आया मुझे याद है की मैंने इस डोमैन को ( यानि यह नाम को ) मैंने छठ पूजा के पहले दिन खरीदा था |क्युकी उस दिन इस डोमैन नाम पर भारी डिस्काउंट चल रहा था। मुझे इसे खरीदना था लेकिन मेरे पास पैसे नही थे। लेकिन फिर भी मैंने इधर उधर से पैसे जुगाड़ किया जिस मे मेरे बड़े पापा के बड़ा बेटा ने मुझे लगभग 1000 रुपये दिया और मेरे पास भी लगभग 800 रूपये थे । और अब मेरे पास 1800 रूपये हो गए तब यह डोमैन का price लगभग 1700 रूपये थे। मैंने बिना देरी किया उसे खरीद लिया और कुछ इस तरह से मेरा blogging की शुरुआत हुई |